चलने दो आतिशें हैं ,

poetry3 Pins58 Followers
चलने दो आतिशें हैं चलने दो , अभी शहर जला है थोड़ा दिल भी जलने दो । साहिलों से कह दो कभी दरियाओं से होकर गुज़रें , यूँ किनारों पर खड़े

चलने दो आतिशें हैं चलने दो , अभी शहर जला है थोड़ा दिल भी जलने दो । साहिलों से कह दो कभी दरियाओं से होकर गुज़रें , यूँ किनारों पर खड़े

चलने दो आतिशें हैं चलने दो , अभी शहर जला है थोड़ा दिल भी जलने दो । साहिलों से कह दो कभी दरियाओं से होकर गुज़रें , यूँ किनारों पर खड़े

चलने दो आतिशें हैं चलने दो , अभी शहर जला है थोड़ा दिल भी जलने दो । साहिलों से कह दो कभी दरियाओं से होकर गुज़रें , यूँ किनारों पर खड़े

चलने दो आतिशें हैं चलने दो , अभी शहर जला है थोड़ा दिल भी जलने दो । साहिलों से कह दो कभी दरियाओं से होकर गुज़रें , यूँ किनारों पर खड़े

चलने दो आतिशें हैं चलने दो , अभी शहर जला है थोड़ा दिल भी जलने दो । साहिलों से कह दो कभी दरियाओं से होकर गुज़रें , यूँ किनारों पर खड़े

Pinterest
Search