अंजुमन के गुंचा ए ग़ुल,

5 Pins93 Followers
अंजुमन के गुंचा ए ग़ुल से रंग ओ बू नदारद है , अब हर एक कूचे से सियासत की बदबू सी आती है । एक ग़ज़ब की तिस्नगी थी मौसम ए नज़ाक़त की जुस्तजू में , सर्द सेहरओं

अंजुमन के गुंचा ए ग़ुल से रंग ओ बू नदारद है , अब हर एक कूचे से सियासत की बदबू सी आती है । एक ग़ज़ब की तिस्नगी थी मौसम ए नज़ाक़त की जुस्तजू में , सर्द सेहरओं

अंजुमन के गुंचा ए ग़ुल से रंग ओ बू नदारद है , अब हर एक कूचे से सियासत की बदबू सी आती है । एक ग़ज़ब की तिस्नगी थी मौसम ए नज़ाक़त की जुस्तजू में , सर्द सेहरओं

अंजुमन के गुंचा ए ग़ुल से रंग ओ बू नदारद है , अब हर एक कूचे से सियासत की बदबू सी आती है । एक ग़ज़ब की तिस्नगी थी मौसम ए नज़ाक़त की जुस्तजू में , सर्द सेहरओं

अंजुमन के गुंचा ए ग़ुल से रंग ओ बू नदारद है , अब हर एक कूचे से सियासत की बदबू सी आती है । एक ग़ज़ब की तिस्नगी थी मौसम ए नज़ाक़त की जुस्तजू में , सर्द सेहरओं

अंजुमन के गुंचा ए ग़ुल से रंग ओ बू नदारद है , अब हर एक कूचे से सियासत की बदबू सी आती है । एक ग़ज़ब की तिस्नगी थी मौसम ए नज़ाक़त की जुस्तजू में , सर्द सेहरओं

अंजुमन के गुंचा ए ग़ुल से रंग ओ बू नदारद है , अब हर एक कूचे से सियासत की बदबू सी आती है । एक ग़ज़ब की तिस्नगी थी मौसम ए नज़ाक़त की जुस्तजू में , सर्द सेहरओं

अंजुमन के गुंचा ए ग़ुल से रंग ओ बू नदारद है , अब हर एक कूचे से सियासत की बदबू सी आती है । एक ग़ज़ब की तिस्नगी थी मौसम ए नज़ाक़त की जुस्तजू में , सर्द सेहरओं

अंजुमन के गुंचा ए ग़ुल से रंग ओ बू नदारद है , अब हर एक कूचे से सियासत की बदबू सी आती है । एक ग़ज़ब की तिस्नगी थी मौसम ए नज़ाक़त की जुस्तजू में , सर्द सेहरओं

अंजुमन के गुंचा ए ग़ुल से रंग ओ बू नदारद है , अब हर एक कूचे से सियासत की बदबू सी आती है । एक ग़ज़ब की तिस्नगी थी मौसम ए नज़ाक़त की जुस्तजू में , सर्द सेहरओं

Pinterest
Search